Html में कितने type के Webpage होते हैं? और Responsive Web Design क्या हैं?

रेस्पोंसिव वेब-डिजाईन और एचटीएमएल में वेबपेजस के प्रकार
लैपटॉप कंप्यूटर

Learn Html इन Hindi
– नमस्कार दोस्तों, स्वागत हैं आपका हमारी एक और नई एचटीएमएल पोस्ट में, इस पोस्ट में हम जानेंगे Types of Webpage in Html (एचटीएमएल में कितने तरह के वेबपेज होते हैं), और Responsive Web Design क्या हैं?

Types of Webpage in Html –  साथियों वेबपेज, website का एक हिस्सा होता हैं, जिसमें उस वेबसाइट से सम्बंधित जानकारी होती हैं, ऐसे ही बहुत सारे वेबपेज मिलकर एक वेबसाइट को बनाते हैं, जिस तरह एक पेज एक किताब का हिस्सा होता हैं, ठीक उसी तरह एक वेबपेज एक वेबसाइट का|

पहले के समय में वेबसाइटस को सिर्फ सीमित Html और Css के द्वारा ही डिजाईन किया जाता था, जिसमें एक बार जो जानकारी उस वेबपेज पर डाल दी जाती थी, वही हमेशा रहती थी ज्यादा कुछ उसमें परिवर्तन देखने को नहीं मिलता था|

इससे उस वेबसाइट पर आने वाले रीडर उस वेबसाइट पर ज्यादा समय तक टिक नही पाते थे, क्योंकि एक तरफ जहाँ वो वेबसाइट एकदम साधारण और ना के बराबर मनमोहक होती थी, वहीँ दूसरी और उस वेबपेज और उसके पढने वाले व्यक्ति के बीच किसी भी प्रकार का इंटरेक्शन नही हो पाता था|

अब आप खुद सोचिये अगर आपको एक ऐसा पेज मिल जाए जिस पर पढ़ी जानकारी को आप अपने साथियों के साथ शेयर करना चाहते हो लेकिन वहाँ पर शेयर करने का कोई विकल्प ही आपको ना मिले, तो आप कैसे उस जानकारी को दूसरों के साझा करेंगे|

तो इस समस्या का सुलझाने के लिए और रीडर्स ज्यादा समय तक वेबसाइट पर वक्त बिता पाए, एचटीएमएल में काफी नए परिवर्तन और विकास किये गये, और आज हम 2 तरह के एचटीएमएल वेबपेज से रु-ब-रु होते हैं, जिसमें एक हैं....
1.       Static Webpage
2.       Dynamic Webpage

1.    Static Webpage (स्टेटिक वेबपेज)-  स्टेटिक वेबपेज वो वेबपेज होते हैं, जिनमें रखे गये कंटेंट की भविष्य में ज्यादा परिवर्तन की सम्भावना नही होती हैं, या ना के बराबर होती हैं, इसके अलावा स्टेटिक वेबपेज में यूजर इंटरेक्शन नही होता है- उदाहरण के लिए आप किसी भी वेबसाइट के अबाउट मी पेज, कांटेक्ट अस पेज, प्राइवेसी पालिसी या डिस्क्लेमर पेज को देखिये, वहाँ पर आपको बहुत सारा टेक्स्ट पढने को मिलेगा, जिसमें उस संस्था से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी होगी|

इन पेजस पर यूजर इंटरेक्शन बिलकुल नही होगा, इसके अलावा उन सूचनाओं में परिवर्तन आपको  बहुत कम देखने को मिलेगा| स्टेटिक वेबपेजस को थोडा मनमोहक बनाने के लिए उनमें भी इमेजस का उपयोग किया जाता रहा है|

स्टेटिक वेबपेज को कोई भी व्यक्ति ओपन करे कंटेंट वही रहता है, उसमें कोई भी परिवर्तन नही होता हैं| इसके अलावा स्टेटिक वेबपेज में दिखने वाले कंटेंट की एक सीमा होती है, जो आखिर तक स्क्रॉल करने के बाद खत्म हो जाती हैं|

2.    Dynamic Webpage- डायनामिक वेबपेज वो वेबपेज होते हैं, जिनमें वेबपेज का कंटेंट यूजर के इनपुट पर निर्भर करता हैं, उदाहरण के लिए आप फेसबुक पर लॉग इन करते हैं, आप अपना ईमेल और पासवर्ड डालते हैं, और आपकी फेसबुक आईडी खुलकर सामने आ जाती हैं, जिसमें आपकी आईडी से सम्बन्धित सामग्री खुलकर सामने आती हैं, लेकिन जब कोई दूसरा व्यक्ति अपनी फेसबुक आईडी पर लॉग इन करता हैं, तब उसके पास उसकी आईडी से सम्बंधित सामग्री खुलकर सामने आती हैं, आपकी आईडी की नही|

ऐसा क्यों होता हैं? – क्या फेसबुक ने आपके लिए और बाकी सभी के लिए अलग-अलग वेबपेज बनाये हैं?

ऐसा इसीलिए होता हैं क्योंकि जब आप अपनी लॉग इन डिटेल्स एंटर करके साइन इन बटन पर क्लिक करते हैं, तब आपका ब्राउज़र फेसबुक के सर्वर के पास जाकर आपकी लॉग इन डिटेल्स को देकर आपको प्रदर्शित की जाने वाली सामग्री की मांग करता हैं, फिर एफबी का सर्वर आपकी डिटेल्स को ढ़ूंढ़कर आपके वेब ब्राउज़र को दे देता हैं, और वेब ब्राउज़र आपकी उन डिटेल्स को एक वेबपेज के रूप में आपको दिखा देता हैं|

इस तरह ना कोई व्यक्ति किसी और व्यक्ति के डाटा को एक्सेस कर पाता है, और सही व्यक्ति को सही सामग्री भी मिल जाती है, इसे ही डायनामिक वेबपेज कहते हैं| यहाँ आप यूजर इंटरेक्शन देख सकते हैं कि किस तरह एक यूजर अपने आईडी पासवर्ड की मदद से अपने फेसबुक आईडी को एक्सेस कर पा रहा होता हैं|

डायनामिक वेबपेजस की और एक खासियत होती है, के इनमें दिखने वाला कंटेंट समय के साथ बदलता रहता है, उदहारण के लिए आप जब अपनी फेसबुक आईडी को रिफ्रेश करते हैं, तब उसमें दिखने वाला कंटेंट बदल जाता है, और आप उसको जितना स्क्रॉल करेंगे वो स्क्रॉल होता जाएगा और आप ज्यादा से ज्यादा कंटेंट देख पायेंगे, ठीक इसी तरह किसी भी न्यूज़ वेबसाइट को आप देखे, उसमें दिखने वाला कंटेंट आर्टिकल, वीडियोस समय के साथ बदलते रहते हैं, उनमें कभी भी एक जैसा कंटेंट आपको देखने को नही मिलेगा, इन वेबपेज के आर्टिकल को आप शेयर कर सकते हैं क्योंकि इनमें यूजर इंटरेक्शन होगा जो स्टेटिक वेबपेज पर आपको देखने को नही मिलता|

आशा करता हूँ, आपको Static Webpage और Dynamic Webpage का अर्थ अच्छे से समझ में आ गया होगा|
  What is Responsive Web Design (रेस्पोंसिव वेब डिजाईन क्या हैं)
 दोस्तों, पहले के समय में जब इन्टरनेट और टेक्नोलॉजी का इतना विकास नही हुआ था, तब   वेबसाइट को मुख्यतः कंप्यूटरस और उससे बड़े उपकरणों के लिए ही बनाया जाता था, लेकिन फिर जैसे धीरे-धीरे इन्टरनेट घर-घर तक पहुँचने लगा और, अगर लोगों के पास कंप्यूटर ना भी होते थे, लेकिन मोबाइल सभी के पास आ गया था, और तेज़ी से फैल भी रहा था जिससे ज्यादा से जादा मोबाइल फ़ोन जनमानस के पास आने लगे, लेकिन जो वेबसाइट को कंप्यूटर के लिए बनाई जाती थी, वो वेबसाइट मोबाइल में बेढंगी खुलती थी, ऊपर और नीचे दोनों तरफ यूजर को स्क्रोलर की सहायता से वेबसाइट को देखना पड़ता था, जो User Experience के दृष्टिकोण से गलत था, User को काफी परेशानी उठानी पड़ रही थी, और इसका सबसे बड़ा दुष्प्रभाव ये था कि कोई भी यूजर इन वेबसाइट पर ठहरना पसंद नही करता था|

इस समस्या के निदान के लिए Responsive Web Design को लाया गया| Responsive Web Design का मतलब होता हैं, अलग-अलग उपकरणों के अनुरूप वेबसाइट का ढल जाना, या अलग-अलग स्क्रीन साइज़ के अनुरूप वेबसाइट का आकर ले लेना, जिससे उस वेबसाइट को सभी उपकरणों जैसे मोबाइल फोन, टेबलेट, लैपटॉप, कंप्यूटर इत्यादि डिवाइसेस पर आसानी से देखा जा सके|

एक Web Developer होने के नाते आपका ये कर्तव्य बनता है कि आप अपने यूजर का ख्याल रखे, और इस बात को समझे कि हर व्यक्ति केवल कंप्यूटर, लैपटॉप पर ही वेबसाइट को एक्सेस नही करता हैं, और आज सबसे ज्यादा वेबसाइट को मोबाइल फ़ोन पर देखा जाता हैं, इसीलिए सबसे पहले आप छोटे-छोटे उपकरणों जैसे मोबाइल इत्यादि के लिए Website Design करें, और फिर बड़े उपकरणों जैसे कि लैपटॉप कंप्यूटर की तरफ बढ़े|

Responsive Web Design के बारे में हम आगे के आर्टिकल्स में विस्तार से जानेंगे|

तो साथियों आज इस आर्टिकल में हमने जाना कि Types of Webpage in Html (एचटीएमएल में कितने तरह के वेबपेज होते हैं), Responsive Web Design क्या हैं? 

मुझे आशा है आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आया होगा, अगर पसंद आया हो तो आप अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करें, और अगर आपके कोई प्रशन हो तो कमेंट बॉक्स में ज़रूर पूछें, इस पोस्ट को पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद|

SHARE THIS
Previous Post
Next Post